रविवार, 2 अप्रैल 2017

सन्तान

                                                                मेरी  डायरी 
आज  खुशी का अवसर था ।
घर मे आया था नन्हा मेहमान ।।
माँ की खुशी की सीमा ना थी।
उस का पूरा था ये जहान ।।
                             मन मे अपार ममता थी।
                          ह्रदय मे कितने थे अरमान ।।
                          अब अपने लिए न जीती थी वह।
                          शिशु मे बसे थें  उस के प्राण ।।
समय चक्र चल रहा था गति से
चलना ही था उस का  काम 
शिशु ने सीख लिया था चलना 
अपनी माँ के. हाथ को थाम 
                                 प्रयत्न था हर खुशी देने का
                               इसीलिए  थे उस के इतने मान
                                 मुख से निकलते ही पूरा होता 
                                जो होता उस का. अरमान 
कर्तव्यो का बोझ बहुत था 
उठाना जिन्हे ना था आसान 
पिता तो यह भूल ही गया था
कब हो जाती सुबह से शाम 
                             कभी उन के अपने भी सपने थे
                            कर दिए उन्हो ने सब बलिदान 
                           बडी तपस़्या की थी उन हो ने 
                         तब बडा हुआ था. वह नादान 
पहले सी अब बात नही थी
बूढा तन था उन दोनो के पास
पर इस का उन को रंज नही था
अपने बेटे से थी जो आस 
                          माता पिता का सपना था वह 
                          उन के दिल की था वह साज 
                          पर उस को कहां थी इस की परवाह 
                          नई जवानी.  थी. जो  साथ 
उस के निर्णय सिर्फ उस के थे
इस मे माँ और पिता का क्या था काम
उन को एक ही पल मे कर के बेगाना 
एकदिन जोडा साथ किसी के अपना नाम 
                                        जिन से उन का मोह जुड़ा था
                                      उसी ने तोडा था  उन का अरमान 
                                      माता पिता और घर का कूड़ा 
                                      दोनो थे  अब एक समान 
 पूरा जीवन संघर्ष किया
पर ना खोया था सम्मान  
अपने ही रक्त से हार गए थे
पल पल सह रहे थे अपमान 
                                 कल तक जिसे सुनाई थी लोरी
                                  वही रहा. था. ताने मार
                                   ऐसा हुआ था वह निर्लज्ज
                                     कि शरमा जाए शैतान 
बूढ़ी आँखे मे सिर्फ आँसू थे
जुबाँ हो चुकी थी बेजान
अब एक ही इच्छा शेष बची थी
कि जल्दी ही जाए उन के प्राण 
                                      ईश्वर से थी एक ही प्राथना 
                                    धरती पर आओ भगवान
                                    फिर माँ बाप बन के देखो 
                                   जिन की औलादे हो शैतान 

प्रश्न

मेरी डायरी 2004
तुम  एक लक्ष्य  जो पा न सका 
मै अपनी कसम निभा न सका।
                                      चाहा तुम्हे बहुत फिर भी
                                       जाने क्यो तुम को पा न सका ।।
चाहा नही इस राह पर चलना 
पर इस दिल को समझा न सका ।
                                          शायद कुछ भूल हुई मुझ से 
                                       तेरे  दिल मे जो प्यार जगा न सका ।।
तुम  को पाने के जुनून मे
मै खुद को भी पा न सका ।
                                        कुछ तो भूल हुई  मुझ से 
                                         तुझ से नजरो भी मिला न सका ।।
चाहा अतीत से बचना 
पर खुद को कभी बचा न सका।
                                           चाहा जब भी तुझे भूलना 
                                           उन यादो को मै भुला न सका ।।




रविवार, 12 मार्च 2017

पहचान

                                              मेरी डायरी 
कौन हूं मै ना जानता 
मुझे अपना कोई ना मानता।
ना कोई मंजिल ना कोई रास्ता 
मै अपनी पहचान तलाशता।
                                           मै हू अपनो से बेगाना 
                                           मेरी ना कोई दाँसता ।
                                           मै खुद मे हूं एक पहेली
                                           जिसे ना कोई जानता ।
मै लावारिस ना किसी का साया
फिर किस का मुझे वास्ता ।
रिश्तो की ना दो अब दुहाई
मै खुद अपने को ना जानता ।

मेरी डायरी - 2004

                                             मेरी डायरी 
प्रेम के खेल की परिपाटी पर
सब अप्रत्याशित पाया है।
कुछ पा कर भी क्या पाऊंगा
जो खो कर मैने पाया है।।
                                         अपने हाल पर खुश हू मै 
                                         कुछ अनमोल जो मैने पाया है।
                                          तेरी हर एक याद को  मैने 
                                          अपने दिल मे समाया है।
तेरे होठो पर इंकार सही
पर दिल मे प्यार समाया है
कुछ पल का ही साथ सही
पर साथ तो तेरा पाया है।
                                       अब तो सब अपना ही है 
                                        कुछ भी नही पराया है।
                                       तुम मुझ को ना मिले तो क्या
                                       आँसू ने तो साथ निभाया है।

छोभ

                                                 मेरी डायरी
तुम जो मुझ से रूठ गए तो टूट गए ये सपने।
अब तो ये आँसू ही मेरे है अपने ।।
                तुम को क्या मै पा भी सकूंगा जीवन मे 
                प्राय: प्रश्न ये उठता है मेरे मन मे।।
हँसते हुए सदा देखा मुझ को तुम ने
पर ना देखा रोया कितना तेरे गम मे।।
                 समझ सकी ना तुम जो पीडा है मन मे
                   अब तो छोभ सा रहता है मेरे दिल मे ।।

शनिवार, 11 मार्च 2017

अपनत्व

मेरी डायरी सन् २००४
स्वप्नन लोक की पूरी कल्पना,या फिर हो तुम मेरा भ्रम।
तुम ही मेरी सारी खुशियां,तुम ही मेरा सारा गम।।
                              तुम से मेरी शाम सुहानी,तुम से ही है ये बेरंग।
                              तेरे आने से जीवन  मे , खत्म हुआ मेरा सूनापन।।
तुम को देखा तो ये जाना,कितना मधुर है ये जीवन।
कितना प्यार किया है तुम से,छू कर देखो मेरा मन।।
                                मेरी हर एक साँस है तेरी, तेरा ही है ये जीवन
                                अन्तिम इच्छा है ये मेरी , तेरी डोली आए मेरे आँगन।।

मंगलवार, 7 मार्च 2017

विरह वेदना




मेरी डायरी (२००३)


हंसना भी वह भूल गया था
और हुआ था वह गंभीर ।
दिल मे छिपी हुई थी पीडा 
आँखे से छलक रहे थे नीर।

अजब धैर्य की छमता थी
फिर भी हुआ था वह अधीर।
दिल मे थी जो विरह वेदना 
रह रह कर ह्रदय रही थी चीर।

सपने उस के टूट गए थे
बिछड गई थी उस की हीर।
शब्दो से व्यक्त क्या होगी
दिल मे उस के थी जो पीर।

एक तरफ सब रिश्ते थें
एक तरफ थी उस की हीर।
इस मे उस का दोष नही था।
वक्त ने खींची थी ये लकीर ।
रिश्तो को वह तोड न पाया
बिछड गई फिर उस की हीर।
दिल की दुनिया उजड चुकी थी
अब तो था वह एक फकीर ।

वक्त ने सब कुछ बदल दिया
पर ना बदली वो तस्वीर 
शायद यही जीवन है या
इसी को कहते है तकदीर ।